कोरोना –  क्या करें, क्या ना करें

कोरोना – क्या करें, क्या ना करें

चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुका है। सभी लोग डरे हुए हैं। यह वायरस तेजी से ह्यूमन टु ह्यूमन ट्रांसफर होता है और शरीर में सबसे पहले फेफड़ों पर अटैक कर व्यक्ति के श्वसन तंत्र को खराब करता है। इस कारण पेशंट का दम घुटने लगता है। इस स्थिति में यदि उसे वैंटिलेटर ना मिले तो सांस ना ले पाने के कारण ही उसकी मौत हो जाती है। 

भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या 60 लाख से ज्यादा पहुंच गई है. दुनिया में अब तक इस महामारी से 3 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं । ऐसे में आपको सावधान रहने की जरूरत है। घर से बाहर निकलने पर मास्क पहने और डिस्टेंसिंग का पालन करे । आपके लिए यह जान लेना भी जरूरी है कि कोरोना से संकमण के क्या लक्षण हैं.

कोरोना वायरस के लक्षण
कोरोना वायरस का मुख्य लक्षण तेज बुखार है. बच्चों और वयस्कों में अगर 100 डिग्री फ़ारेनहाइट (37.7 डिग्री सेल्सियस) या इससे ऊपर पहुंचता है तभी यह चिंता का विषय है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर 88 फीसदी को बुखार, 68 फीसदी को खांसी और कफ, 38 फीसदी को थकान, 18 फीसदी को सांस लेने में तकलीफ, 14 फीसदी को शरीर और सिर में दर्द, 11 फीसदी को ठंड लगना और 4 फीसदी में डायरिया के लक्षण दिखते हैं।

अगर आपको खाने में चीजों का स्वाद नहीं मिल रहा है और आसपास की चीजों की गंध महसूस नहीं कर पा रहे हैं तो आपको सावधान हो जाना चाहिए । आपको कोराना की जांच जरूर करा लेनी चाहिए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी सूंघने और स्वाद की क्षमता में कमी को भी कोरोना वायरस के लक्षणों में शामिल कर लिया है।

कोरोना वायरस से बचाव के उपाय

कोरोना वायरस का अब तक कोई इलाज या वैक्सीन नहीं है इसलिए फिलहाल इसके लक्षणों को काबू में रखकर इसका इलाज करने की कोशिश की जा सकती है। अगर किसी व्यक्ति में इसके लक्षण विकट नहीं होते हैं तो वह कुछ दिनों में इससे अपने आप ही ठीक हो जाता है। बाकी लोगों को (लक्षणों के) इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कर लिया जाता है। ऐसे में कोरोना वायरस से मुकाबले की तैयारी दो स्तरों पर की जा सकती है। इनमें से पहला अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यूनिटी को बढ़ाना है ताकि आपका शरीर इससे लड़ाई करने के लिए तैयार हो और दूसरा इस बात का इंतजाम करना है कि कोरोना वायरस का संक्रमण होते ही इसके लक्षणों को काबू में रखने के हमारे प्रयास भी चालू हो जाएं ताकि ये लक्षण इतने न बिगड़ें कि हमें अस्पताल या आईसीयू में दाखिल होना पड़े। इस समय अस्पताल में भर्ती होना बहुत मुश्किल है और महंगा भी।

लेकिन कोरोना वायरस से संक्रमित ज्यादातर लोगों को इसका पता कई दिन बाद ही चल सकता है और तब तक उनमें से कुछ के लक्षण बिगड़ चुके होते हैं। तो फिर क्या किया जाए? किया यह जाए कि अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ-साथ कोरोना संक्रमित न होने पर भी उसके लक्षणों को काबू में रखने के कुछ साधारण व नुकसानरहित प्रयास करते रहा जाए । ऐसा करने से कोरोना संक्रमित होने पर हमारा एक दिन भी खराब नहीं होगा और शुरू से ही हमारे लक्षणों का उपचार चलता रहेगा।

आखिर क्यों करना चाहिए कोरोवोन का सेवन

कोरोना महामारी के इस दौर मे आपकी और आपके परिवार की सुरक्षा एक बहुत बड़ा चिंता का विषय बना हुआ है। ऐसी स्थिति में किसी की समझ में यह नहीं आ रहा है कि कोरोना से परिवार को बचाने के लिए क्या करना चाहिए। ऐसे में Venus Ayurveda आपके स्वास्थ्य और आपके परिवार की सुरक्षा के लिए कोरोवोन के रूप में एक ऐसी आयुर्वेदिक मेडिसिन लाया है जो ना केवल आपकी इम्यूनिटी बढ़ाती है अपितु कोरोना जैसे वायरस से बचाव करने में आपकी सहायता करती है । कोरोवोन आयुष विभाग द्वारा अनुमोदित 13 जङी बूटियों से निर्मित औषधि है जो आपके और आपके परिवार को वायरस, बैक्टीरिया, फ्लू, खांसी, सर्दी और संक्रमण आदि से सुरक्षित कर आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है।

कोरोवोन विभिन्न संक्रमणों और श्वांस संबंधित समस्याओं के खतरे को कम करने में मदद करती है। यह रक्त शर्करा के स्तर को संतुलित करने और आपके दिल की रक्षा करने के लिए भी अच्छी तरह से काम करती है।

कोरोवोन के नियमित उपयोग से कोरोना जैसे वायरस से लड़ने के लिए आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत रखने में मदद मिल सकती है।

लाभ:

रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती हैं।

शक्तिशाली हर्बल एंटी बायोटिक, एंटी-ऑक्सीडेंट, और एंटी इनफ्लमेटरी गुणो से युक्त।

वायरस और बैक्टीरिया, फ्लू, बुखार, संक्रमण और एलर्जी, खांसी और सर्दी आदि से बचाता है।

फेफड़ों की ताकत, मांसपेशियों की ताकत में सुधार करता है और थकान को दूर करता है।

कोलेस्ट्रॉल और मानसिक तनाव को कम करता है।

घातक कोरोना वायरस से संक्रमित होने की संभावनाओं को कम करने में मदद करता है।

कोरोना (कोविद -19) जैसे वायरल संक्रमण की शुरुआत को रोकने में शरीर की मदद करता है।

इसमें एंटी एलर्जिक गुण होते हैं जो फेफड़ों को स्वस्थ रखते हैं और वायरल संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार होते हैं।

अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट www.corowon.com पर विजिट करें ।

Leave a Reply