कोरोना वायरस – लक्षण, बचाव एवं आयुर्वेदिक उपाय

कोरोना वायरस – लक्षण, बचाव एवं आयुर्वेदिक उपाय

कोरोना वायरस, जिसकी शुरुआत पिछले साल चीन के वुहान प्रांत के सीफ़ूड और पोल्ट्री बाजार मे हुई  है, आज दुनिया भर के लिए एक गंभीर  समस्या बन चुकी है।कोरोना वायरस भारत सहित 148 देशों में फैल चुका है।

 कोरोना वायरस से अभी तक 6,70,629  से अधिक लोगों की मौंत हो चुकी है। जिसके कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। यह बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को होती है। साधारण शब्दों में कहे तो कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने से निकले थूक के बेहद बारीक कण हवा में फैल जाते है। इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु होते हैं। संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर ये विषाणुयुक्त कण सांस के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।

  कोरोना वायरस के लक्षण (Symptoms of Corona virus):

 बुखार, थकान, सूखी खांसी, नाक का बंद होना, बहती नाक, गले की खराश, सांस लेने मे कठिनाई, फ्लू और कोल़्ड के होते है लक्षण, डायरिया और उल्टी

 कोरोना वायरस (Corona Virus) कैसे होता है?

 विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार कोरोना वायरस बीमारी संक्रमित व्यक्ति के खांसने या छींकने से निकले थूक के बेहद बारीक कण हवा में फैल जाते है। इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु होते हैं। संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर ये विषाणुयुक्त कण सांस के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।

 इंसान के फेफड़े शरीर में वो जगह हैं जहां से ऑक्सीजन शरीर में पहुंचना शुरू होता है जबकि कार्बन डाई ऑक्साइड शरीर के बाहर निकलता है। लेकिन कोरोना के बनाए छोटे-छोटे एयरसैक में पानी जमने लगता है और इस कारण आपको सांस लेने में तकलीफ़ होती है और आप लंबी सांस नहीं ले पाते। ऐसे में मरीज़ को वेन्टिलेटर की ज़रूरत पड़ती है। कई बार इस बात को लेकर गंभीरता न लेने पर मौत भी हो सकती है।

कोरोना वायरस से बचाव (Corna virus Precautions)

कोरोना वायरस बीमारी (Coronavirus disease) से खुद को बचाने के लिए हाइजीन का पूरा ख्याल रखें। इसके साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगंठन ने कुछ बचाव के उपाय बताए है।  जिन्हें अपनाकर आप कोरोना वायरस का रोकथाम कर सकते है।

कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए अपने हाथों को  सैनिटाइजर (sanitizer) या फिर हैंडवॉश और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं।

कोरोना वायरस के रोकथाम के लिए जब आप बाहर से घर वापस आए तो सबसे पहले अपने हाथ धोएं।

अगर आप बाहर है तो सैनिटाइजर का यूज करें।

 खांसी या जुकाम है तो मास्क पहनें। इसके साथ ही छींक आते समय टिशू से मुंह को ढक लें। जिससे कोई दूसरी व्यक्ति इससे संक्रमित न हो।

उपयोग की गई टिशू को तुंरत डस्टबीन में डाल दें और अपने हाथ को धो लें।

खांसी या जुकाम वाले व्यक्ति से बातें करते या मिलते समय उससे करीब 1 मीटर यानी 3 फिट की दूसरी बनाकर रखें।

डब्लूएचओ के अनुसार आप किसी जगह को छूते है तो हो सकता है कि उसमें वह वायरस हो। इसलिए नाक, आंख और मुंह को न छुएं।

अस्पताल में भी ऐसे वार्ड्स की तरफ न जाएं जहां कोरोना वायरस के मरीज हों, अगर अस्पताल या क्लीनिक में काम करते हैं तो मास्क जरूर लगाएं।

ज्यादा प्रॉब्लम हो रही है तो घर पर रहें। इसके अलावा अगर आपको बुखार, खांसी , जुकाम हो या फिर सांस लेने में समस्या हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से सपंर्क करें

कोरोना वायरस से बचान करना चाहते हैं तो अच्छी तरह से पका हुआ खाना ही खाए।

 कोरोना से बचाव के आयुर्वेदिक व घरेलू उपाय

1. COVID-19 वायरस के प्रभाव से बचने के लिए सबसे जरूरी है कि आप नियमित तौर पर गुनगुना पीना पिएं।

 2. शरीर के इम्यून सिस्टम को दुरूस्त रखने के लिए आपको नियमित तौर पर उचित मात्रा में आंवला, एलोवेरा, गिलोय, नींबू आदि का जूस पीना चाहिए।

 3. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के आप पानी में तुलसी रस की कुछ बूंदें डालकर पी सकते हैं।

4 गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीने से भी रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है।

 5. इम्यून सिस्टम की बेहतरी के लिए आप अष्टादसांग काढ़ा, गुडूच्यादि काढ़ा , अमृतउत्तरम काढ़ा या सिरिशादी काढ़ा का सेवन करना उत्तम रहेगा।

 6. घर और आस-पास के वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए आप नियमित तौर पर नीम की पत्तियों, गुग्गल, राल, देवदारु और दो कपूर को साथ में जलाएं। उसके धुएं को घर और आस-पास में फैलने दें।

7. इसके अलावा आप चाहें तो गुग्गल, वचा, इलायची, तुलसी, लौंग, गाय का घी और खांड को किसी मिट्टी के पात्र में रखकर जलाएं और उसके धुएं को घर और आस-पास में फैलने दें।

 8. इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने के लिए आप नियमित तौर पर तुलसी की 5 पत्तियां, 4 काली मिर्च, 3 लौंग, एक चम्मच अदरक का रस शहद के साथ ले सकते हैं।

 9. चाय पीने के शौकीन हैं, तो आपको नियमित रूप से 10 या 15 तुलसी के पत्ते, 5 से 7 काली मिर्च, थोड़ी दालचीनी और उचित मात्रा में अदरक डालकर बनाई गई चाय पीनी चाहिए। य​ह आपको रोगों से बचने में मदद करेगी।

Leave a Reply